तआरूफ़

                                                                  तआरूफ़ 
                                                   ----------------------------------




                मैं  जीता जागता
                एक बुत 
                चलता फिरता , एक पत्थर 
                मैं  महसूर हूँ  हवाओं  से ,
                          
                               मैं परिंदा फड़फड़ाता 
                               ज़ीस्त  के पिंजरे में 
                               गुहार लगाता सबसे 
                              आज़ादी की ,


               संवेदनाओं के जज़ीरे पे 
               चुपचाप खड़ा 
               महसूस करता हूँ 
               जन्नत का सुख,  दोजख का दुःख ,

                             
                              सदियों  से धुआँ -धुआँ 
                              आकार को तरसता 
                              तहलील हूँ हवाओं में ,


              मैं आब की एक बून्द 
             सीप को तरसता 
             गौहर होने के लिए ,
             सूखता जा रहा हूँ 
              उम्र की धूप से ,
         
                            और क्या कहूँ
                            काफ़ी  है इतना
                            मेरा तआरूफ़ 

                                



          
              

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

ये ज़िन्दगी हादसों का महल है

आदमी सोचता है की ऐसा हो